हैप्पी बर्थडे धोनी: भारतीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल भी हैं धोनी, जानिए उनकी खास बातें…

0
490
HAPPY BIRTHDAY!!

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और मौजूदा विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी का आज 37वां जन्मदिन है। भारत को 28 साल बाद आईसीसी वर्ल्ड कप जिताने के अलावा टी20 और टेस्ट में भी नंबर एक बनाने वाले धोनी इस समय टीम के साथ इंग्लैंड के दौरे पर हैं।

7 जुलाई, 1981 को जन्मे पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भारतीय सेना में अभी मानद लेफ्टिनेंट कर्नल हैं और उन्हें यह उपाधि 2011 में मिली थी। वहीं, धोनी तीनों आईसीसी खिताब (चैंपियंस ट्रॉफी, टी-20 और वनडे विश्व कप) जीतने वाले इकलौते कप्तान हैं। इसके अलावा धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों फॉर्मैट में सर्वाधिक 178 स्टंपिंग करने वाले विकेटकीपर हैं।

Dhoni-Jiva

37वें जन्मदिन की पूर्व संध्या पर उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में उतरकर 500 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने की उपलब्धि हासिल की। धोनी इस मुकाम पर पहुंचने वाले तीसरे भारतीय हैं। उनसे पहले सचिन तेंडुलकर (664) और राहुल द्रविड((509) ने यह उपलब्धि हासिल की थी। धोनी 92 टी20, 90 टेस्ट मैच और 318 वनडे खेल चुके हैं।

टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने से पहले धोनी ने 33 अर्धशतक और 6 शतकों के साथ 4876 रन बनाए। वनडे क्रिकेट में 67 अर्धशतक और 10 शतकों के साथ वह 9967 रन जुटा चुके हैं। दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में 1455 रन बनाए हैं। विकेट के पीछे तो उनकी फुर्ती का कोई सानी नहीं है। अंतरराष्ट्रीय मैचों में विकेटकीपर के तौर पर वह 602 कैच लपकने के अलावा 178 खिलाड़ियों को स्टंप कर चुके हैं।

धोनी से जुड़े ये रोचक तथ्य, जो आप शायद ही जानते होंगे

  • धोनी को 2007 में राहुल द्रविड़ के संन्यास के बाद टीम इंडिया का कप्तान बनाया गया था। बहुत कम लोगों को पता होगा कि कप्तानी के लिए धोनी के नाम की सिफारिश सचिन तेंदुलकर ने की थी।
  • धोनी धार्मिक व्यक्ति हैं और काफी पूजा-पाठ करते हैं। वह जब भी रांची में होते हैं तो नेशनल हाइवे-33 के पास स्थित देवड़ी माता मंदिर जरूर जाते हैं। ये मंदिर धोनी का पसंदीदा मंदिर है। (पढ़ें: एमएस धोनी के 37वें जन्मदिन पर सहवाग ने अनोखे अंदाज में किया विश, लिखा, ‘ओम फिनिशाया नम:’)
  • धोनी संगीत के दीवाने हैं, वह अक्सर पुरानी हिंदी फिल्मों के गाने सुनते रहते हैं। धोनी के पसंदीदा गायक किशोर कुमार हैं।
  • धोनी की अपनी पत्नी साक्षी से पहली मुलाकात 2007 में कोलकाता में हुई थी। उस समय टीम इंडिया ईडन गार्डंस में पाकिस्तान के साथ मैच खेलने के लिए कोलकाता गई थी।
  • धोनी को जिस हेलिकॉप्टर शॉट ने क्रिकेट की दुनिया में अलग पहचान दिलाई, उसे धोनी ने अपने दोस्त संतोष लाल से सीखा। संतोष लाल झारखंड के पूर्व क्रिकेटर थे।
  • धोनी अपने करियर के शुरुआती दिनों में लंबे बाल रखते थे। 2011 की वर्ल्ड कप जीत के बाद उन्होंने अपना मुंडन करा दिया था। धोनी ने एक बार बताया था कि उनके लंबे बाल जॉन अब्राहम से प्रेरित थे।
  • नंवबर 2011 को धोनी को भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद उपाधि दी गई थी, धोनी ये सम्मान पाने वाले कपिल देव के बाद दूसरे भारतीय क्रिकेटर हैं।
  • धोनी ने अपना वनडे डेब्यू दिसंबर 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ किया था। लेकिन ये यादगार नहीं रहा था और वह अपने पहले ही मैच में जीरो पर रन आउट हो गए थे।
  • धोनी ने अपना रणजी डेब्यू महज 18 साल की उम्र में 1999-2000 सीजन में बिहार के लिए किया था।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को बेहतरीन कप्तान और मैच फिनिशर के तौर पर जाना जाता है। टीम इंडिया ने धोनी की अगुवाई में आईसीसी के तीनों बड़े टूर्नामेंट जीते हैं। धोनी ने अपनी मेहनत के दम पर इन उपलब्धियों को हासिल किया। धोनी की श्रीलंका के खिलाफ खेली गई 183 रनों की शानदार पारी ने सभी को उनका चहेता बना दिया था। लेकिन ऐसी और कई पारियां हैं जब धोनी ने अपने आप का साबित किया है। 7 जुलाई को धोनी के बर्थडे पर हम आपको बता रहे हैं धोनी के बेस्ट इनिंग्स।

धोनी की बेस्ट पारियां:

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 224 रन

चेन्नई में 22 फरवरी 2013 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मैच में खेली गई 224 रनों की पारी धोनी के करियर का बेस्ट स्कोर है। इस मैच मैच में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 8 विकेट से मात दी थी। धोनी ने 265 गेंदों में 84.52 की स्ट्राइक रेट से 24 चौके और 6 छक्कों की मदद से 224 रन बनाए थे। टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया 380 रन पर ऑलआउट हो गई थी। धोनी ने कप्तानी पारी खेलते हुए 224 रन बनाए और कोहली ने उनका भरपूर साथ दिया। भारत ने 5वें दिन आसानी से मैच जीत लिया।

श्रीलंका के खिलाफ 183 रनों की नाबाद पारी

31 अक्टूबर 2005 को टीम इंडिया का सामना श्रीलंका से था। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 298 रन का पहाड़ स्कोर खड़ा किया था। टीम इंडिया ने महज 7 रन के योग पर ओपनर सचिन तेंदुलकर का विकेट गंवा दिया था। धोनी ने मौके पर चौका लगाते हुए टीम के लिए मैच विनिंग पारी खेली। धोनी ने महज 145 गेंदों में 15 चौके और 10 छक्के जड़ते हुए नाबाद 183 रन की पारी खेल डाली और टीम इंडिया को बेहतरीन जीत दिला दी। धोनी द्वारा बनाया नाबाद 183 रन का स्कोर श्रीलंका के खिलाफ बेस्ट इंडियन स्कोर है। धोनी से पहले यह रिकॉर्ड सौरव गांगुली के नाम था, जो कि मई 1999 में श्रीलंका के खिलाफ वनडे में 183 रन बनाकर आउट हो गए थे। धोनी ने नाबाद रहकर यह कीर्तिमान अपने नाम कर लिया।

पाकिस्तान के खिलाफ 148 रनों की पारी

5 अप्रैल 2005 को विशाखापट्टनम में पाकिस्तान के खिलाफ मैच में भारत ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी की, लेकिन सचिन सिर्फ 2 रन बनाकर आउट हो गए और धोनी मैदान पर आए। बांग्लादेश के खिलाफ खेले अपने पहले 3 वनडे मैचों में धोनी के बल्ले से सिर्फ 19 रन निकले, लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 123 गेंदों में 15 चौकों और 4 छक्कों की बदौलत 148 रनों की पारी खेलकर टीम में जगह पक्की कर ली।

वर्ल्डकप 2011 का आखिरी छक्का

कैप्टन कूल और माही के नाम से मशहूर धोनी की बेस्ट पारियों में वर्ल्डकप 2011 के फाइनल मैच की पारी खास है। इस मैच में हालांकि गौतम गंभीर ने बेहतरीन पारी खेली थी, लेकिन अंतिम क्षणों में धोनी का छक्का शायद ही कोई क्रिकेट प्रेमी कभी भी भूल पाएगा। श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की और जयवर्धने के शतक की बदौतल भारत के सामने 275 रन का लक्ष्य रखा। भारत की शुरुआत खराब रही और सहवाग बिना खाता खोले आउट हो गए। गंभीर ने 97 रन की पारी खेली, लेकिन धोनी अंत तक क्रीज पर टिके रहे और अंत में छक्का जड़कर वर्ल्डकप जीतने के बाद ही वापस लौटे। इस मैच में धोनी ने 122 गेंदों में 9 चौकों की मदद से 91 रन की नाबाद पारी खेली थी।

Dhoni in Action!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here