क्या है मॉनसून का विज्ञान और यह कैसे आता है, जानें मॉनसून के बारे में सब कुछ जो आप जानना चाहते हैं

0
2861

भारत में मानसून उन ग्रीष्मकालीन हवाओं को कहते हैं जिनसे वर्षा होती हैं, ये हवाएं बंगाल की खाड़ी, अरब सागर एवं हिंद महासागर से होकर आती है। इनकी दिशा दक्षिण पश्चिम एवं दक्षिण से उत्तर एवं उत्तर पश्चिम की ओर होती है। इस कारण इन्हें दक्षिण पश्चिम मानसून हवाओं के नाम से भी जाना जाता है। ग्रीष्मकाल में मानसून हवाएं सागर से स्थल की ओर एवं शीतकाल में स्थल से सागर की ओर चला करती है। दिशा बदलने के कारण प्रथम को दक्षिण पश्चिम मानसून एवं द्वितीय को उत्तर पूर्वी मानसून या लौटता मानसून कहते हैं। ये मानसून हवाएं इतनी प्रबल होती हैं कि इनके प्रभाव से उत्तरी हिंद महासागर में सागरीय धारा प्रवाहित होने लगती है तथा इन हवाओं की दिशा के साथ उक्त सागरीय धारा भी इन हवाओं की दिशा में अपनी दिशा बदल लेती हैं। इस प्रकार सागरीय धाराओं का वर्ष में दो बार दिशा बदलना केवल हिंद महासागर में होता है। विश्व के किसी महासागर में इस प्रकार की घटना नहीं होती। मानसून हवाओं के नाम पर उत्तरी हिंद महासागर की इस धारा को मानसून धारा कहते हैं।

उत्पत्ति

भारतीय मानसून हवाओं की उत्पत्ति पर अनेक मत हैं लेकिन आधुनिक विचारधारा को सर्वाधिक समर्थन प्राप्त है। इस विचारधारा के अनुसार मानसून हवाओं के विकास में परिध्रुवीय भंवर, हिमालय एवं तिब्बत पठार एवं जेट स्ट्रीम का महत्वपूर्ण योगदान है। इस विचारधारा के अनुसार, 22 सितंबर के बाद सूर्य का दक्षिणायन होना प्रारंभ होता है। फलस्वरूप उत्तरी गोलार्द्ध में सूर्य की किरणें तिरछी पड़ने लगती हैं। ध्रुवों की ओर जाने पर किरणों का तिरछापन बढ़ता जाता है। तिरछी किरणें सुबह की किरणों की तरह होती हैं जिनसे प्रकाश तो मिलता है लेकिन तापमान कम मिलता है। किरणों के तिरछेपन के साथ-साथ दिन की अवधि भी कम होती जाती। सूर्य के दक्षिणायन के साथ-साथ उत्तरी गोलार्द्ध में रातें लंबी व दिन छोटे होते जाते हैं। इस प्रकार का सर्वाधिक प्रभाव उत्तरी ध्रुव पर पड़ता है। 66 अंश 30 मिनट उत्तरी अक्षांश पर रात की अवधि 24 घंटे, 70 अंश उत्तरी अक्षांश पर 4 माह एवं 90 अंश उत्तरी अक्षांश पर 6 माह तक की होती है। किरणों के तिरछेपन एवं रातें लंबी होने से उत्तरी गोलार्द्ध में ध्रुवों की ओर ठंड बढ़ती जाती है। धरातल ठंडा होने से वायु भी ठंडी होने लगती है। ठंडी वायु भारी होती है इस कारण ऊपर से नीचे बैठती है। इस ठंडी वायु के ऊपर से नीचे बैठने के कारण ध्रुवीय धरातल पर उच्च वायुदाब एवं धरातल से ऊपर वायुमंडल में जहां की वायु सरककर नीचे बैठती है धरातलीय उच्चदाब के विपरीत निम्न वायुदाब बन जाता है। ध्रुव के ऊपर उच्च वायुमंडल तल में बने इस निम्न वायुदाब के चारों ओर घड़ी की विपरीत दिशा में वायु संचार होने लगता है जिससे वायुमंडलीय उच्चतल में ध्रुव के चारों ओर एक भंवर का निर्माण होता है। जिसे परिध्रुवीय भंवर कहते हैं। जैसे-जैसे ध्रुव पर तापमान कम होता जाता है।

परिध्रुवीय भंवर के विस्तार में विकास होता जाता है। इसका विस्तार 35 अंश उत्तरी अक्षांश से 20 अंश उत्तरी अक्षांश तक हो जाता है। इस परिध्रुवीय भंवर में वायु पूर्व से पश्चिम दिशा में प्रवाहित होती है। 20 अक्षांश उत्तरी अक्षांश से 35 अंश उत्तरी अक्षांश के मध्य इस उच्चतलीय परिध्रुवीय भंवर को पछुआ जेट स्ट्रीम कहते हैं। इस जेट स्ट्रीम की ऊंचाई सामान्यतः 7 से 14 किमी तक होती है। यह जेट स्ट्रीम दक्षिण अफगानिस्तान, उत्तरी पाकिस्तान के उच्च वायुमंडलीय तल से होकर पूर्व की ओर जाती है। यहां जेट स्ट्रीम के हिमालय एवं तिब्बत पठार से टकराने से दो भाग हो जाते हैं। एक भाग हिमालय के दक्षिण में प्रवाहित होने लगता है। जब यह भाग हिमालय के दक्षिण की ओर मुड़ता है तो मुड़ने के कारण उच्चतल में घड़ी के अनुकूल दिशा में पवन संचार होने लगता है। घड़ी की दिशा में पवन संचार प्रतिचक्रवात की दशा उत्पन्न करता है। उच्च तल में स्थित प्रति चक्रवात के कारण वर्षा नहीं होती है एवं आसमान साफ रहता है क्योंकि वर्षा के लिए हवाओं का ऊपर उठना आवश्यक है। फिर शीतकाल में उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभों से अल्प वर्षा हो जाती है इस वर्षा का संबंध भूमध्यसागरीय प्रदेश से चलने वाली हवाओं से है।

शीतकाल में उत्तर भारत में अल्प वर्षा

यूरोप में धरातल के समीप पूर्व से पश्चिम की ओर पछुआ हवाएं प्रवाहित होती है। शीतकाल में इन हवाओं का विस्तार दक्षिण में भूमध्यसागर तक हो जाता है। इन हवाओं के साथ पश्चिम से पूर्व की ओर शीतोष्ण चक्रवात चला करते हैं जिनसे यूरोप एवं भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में वर्षा होती है। शीतकाल में ये हवाएं भारत के उत्तर-पश्चिम में पंजाब एवं जम्मू-कश्मीर से होकर भारत में प्रवेश करती है। इन हवाओं के सथ शीतोष्ण चक्रवात भी प्रवेश करते हैं। चक्रवातों में हवाएं चक्राकार रूप में ऊपर उठती हैं जिनसे वर्षा होती है। लेकिन भारत के उत्तर-पश्चिम में स्थित उत्तरी पाकिस्तान एवं अफगानिस्तान के उच्चतलीय वायुमंडल में स्थित प्रतिचक्रवातीय पवन संचार में हवाएं ऊपर से नीचे बैठती हैं जो शीतोष्ण चक्रवात की हवाओं को ऊपर उठने नहीं देती जिससे शीतोष्ण चक्रवात भारत में चक्रवात के रूप में प्रवेश न कर उनके क्षीण रूप अवदाब या विक्षोभ के रूप में प्रवेश करते हैं जिन्हें भारत में शीतकालीन पश्चिमी विक्षोभ के नाम से जाना जाता है। इन विक्षोभों की मुख्य वर्षा पंजाब व हरियाणा में एवं गौण वर्षा पूर्व में पटना एवं दक्षिण में जबलपुर तक होती है। इनके द्वारा हिमालय क्षेत्र के जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश व उत्तरांचल में हिमपात हो जाता है। यह वर्षा भारत की वार्षिक वर्षा की अल्प मात्रा है लेकिन उत्तर भारत में गेहूं की फसल के लिए अत्यंत लाभकारी है। शीतकाल में दक्षिण भारत में भी कुछ वर्षा होती है लेकिन यह वर्षा पश्चिमी विक्षोभ से नहीं बल्कि लौटते मानसून से होती है।

शीतकाल में दक्षिण भारत में वर्षा

शीतकाल में भारत में हवाएं उत्तर से दक्षिण की ओर एवं स्थल से सागर की ओर चलती हैं। इन्हें लौटता मानसून भी कहते हैं। लौटता मानसून भारत के पूर्वी तट से तमिलनाडु तट पर जल से स्थल में प्रवेश कर जाता है। जल से ऊपर से आने के कारण इन हवाओं में सागरीय नमी आ जाती है इसलिए इनके दावारा मुख्य रूप से तमिलनाडु तट पर तथा गौण रूप से केरल, कर्नाटक एवं दक्षिण आंध्र प्रदेश में दिसंबर-जनवरी में वर्षा हो जाती है। उक्त पश्चिमी विक्षोभ एवं लौटती मानसून वर्षा को छोड़कर शेष भारत शीतकाल में शुष्क एवं ठंडा रहता है।

भारत में ग्रीष्मकालीन वर्षा

21 मार्च से सूर्य उत्तरायण होना प्रारंभ होता है जिससे उत्तरी गोलार्द्ध के तापमान में वृद्धि होने लगती है और उत्तरी ध्रुवीय धरातलीय उच्च वायुदाब कम होने लगता है। इसका प्रभाव उच्चतलीय वायुमंडलीय परिध्रुवीय भंवर पर भी पड़ता है। मध्य जून तक परिध्रुवीय भंवर का 35 से 20 अंश उत्तरी अक्षांशों की ओर बढ़ा हुआ भाग लुप्त होने लगता है। उच्चतलीय पछुआ जेट स्ट्रीम उत्तर की ओर खिसकने लगती है। इस कारण हिमाचल के दक्षिण से होकर जाने वाली शीतकालीन जेट स्ट्रीम शाखा समाप्त हो जाती है लेकिन तिब्बत के उत्तर से होकर जाने वाली जेट स्ट्रीम की शाखा पहले की भांति प्रवाहित होती रहती है। यह शाखा हिमालय एवं तिब्बत पठार के कारण उत्तर की ओर मुड़ती है। उत्तरी पाकिस्तान एवं अफगानिस्तान के उच्चतलीय वायुमंडल में इस मोड़ पर पवन संचार दक्षिण पश्चिम से उत्तर पूर्व की ओर घड़ी की विपरीत दिशा में हो जाता है जिससे उच्चतलीय चक्रवातीय पवन संचार का निर्माण होता है क्योंकि उत्तरी गोलार्द्ध में घड़ी के विपरीत दिशा में पवन संचार होने से गतिजन्य चक्रवात बनता है।

यह चक्रवात धरातलीय हवाओं को अपनी ओर खींचता है। ग्रीष्मकाल के कारण उत्तर भारत एवं उत्तरी पाकिस्तान में धरातलीय तापमान अधिक होते हैं जिससे धरातल के समीप हवाएं गर्म हो जाती हैं और स्वतः ऊपर उठती हैं। इन उठती हवाओं का उच्चतलीय चक्रवात द्वारा चूषण होने के कारण हवाओं के ऊपर उठने की क्रिया में तीव्रता आ जाती है। इस तीव्रता के कारण पूरे प्रायद्वीपीय भारत से हवाएं तेजी से उत्तर-पश्चिमी भारत की ओर झपटती है इन हवाओं को दक्षिण पश्चिम मानसून कहते हैं। मानसून हवाओं का उत्तर की ओर तेजी से बढ़ने का एक और कारण दक्षिणी परिध्रुवीय भंवर भी है। जिस समय उत्तरी गोलार्द्ध में ग्रीष्मकाल होता है। उसी समय दक्षिणी गोलार्द्ध में शीतकाल होता है। उत्तरी ध्रुव की भांति दक्षिणी गोलार्द्ध में भी परिध्रुवीय भंवर का निर्माण होता है। जिसका विस्तारित भाग उष्णकटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र (भूमध्यरेखीय पेटी एवं व्यापारिक पवनों को पृथक करने वाला संक्रमण क्षेत्र मध्य संक्रमण क्षेत्र जो इन दोनों के मध्य स्थित होता है) को उत्तर की ओर धकेलता है। भूमध्यरेखा पार करने के बाद इनकी दिशा दक्षिणी पश्चिमी हो जाती है। ये हवाएं सागर के ऊपर से भारतीय भूमि में प्रवेश करती हैं। सागरों के ऊपर से आने वाली ये हवाएं जब भारतीय भूमि के ऊपर से गुजरती है तो तीव्र वर्षा करती है। इसे मानसून का प्रस्फोट कहते हैं।

भारत में दक्षिण पश्चिम मानसून हवाओं का वितरण

ग्रीष्मकालीन मानसून जल से स्थल में प्रवेश करता है तो बंगाल की खाड़ी के ऊपर से आने वाले मानसून को बंगाल की खाड़ी का मानसून एवं अरब सागर के ऊपर से आने वाली हवाओं को अरब सागर का मानसून कहते हैं।

अरब सागर शाखा

अरब सागर का मानसून भारत के पश्चिमी तट से भारत में प्रवेश करता है। अरब सागर की एक शाखा केरल से महाराष्ट्र तक फैले हुए पश्चिमी घाट पर्वत से टकराती है। पश्चिमी घाट तट से सीधे खड़े हुए पर्वत (ऊंचाई 800 से 2000 मी.) जिनसे मानसूनी हवाएं टकराकर ऊपर उठती हैं चूंकि वह मानसूनी हवाएं आर्द्रता से युक्त होती हैं, इस कारण तीव्र वर्षा करती हैं। अतः पश्चिमी घाट पर्वत भारत के अधिकतम वर्षा क्षेत्र में से हैं। ये हवाएं पश्चिमी घाट पर्वत को पार करके जब दूसरी ओर उतरती हैं तो इनकी वर्षा क्षमता कम हो जाती है क्योंकि पश्चिमी घाट पर ये हवाएं वर्षा कर चुकी होती हैं। उतरते समय यह गर्म होने लगती हैं जससे संघनन क्रिया मंद पड़ जाती है जिससे इनकी वर्षा कराने की क्षमता में और कमी आ जाती है। इन कम वर्षा वाले क्षेत्रों को वृष्टिछाया क्षेत्र कहते हैं। महाबलेश्वर, मुंबई व मंगलोर क्रमशः 650 सेमी. 188 सेमी व 330 सेमी. वर्षा प्राप्त करते हैं जबकि इनके पास स्थित किंतु पश्चिमी घाट के दूसरी ओर वृष्टिछाया क्षेत्र में स्थित कोंकण, पुणे एवं बंगलुरु क्रमशः 55 सेमी व 50 सेमी वर्षा प्राप्त करते हैं। मध्य भारत मानसून शाखा नर्मदा एवं ताप्ती नदियों से होती हुई गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड राज्यों को वर्षा प्रदान करती है तत्पश्चात इसकी वर्षा क्षमता कम हो जाती है। छत्तीसगढ़ एवं झारखंड में यह बंगाल की खाड़ी की शाखा में मिल जाती है। एक अन्य साखा उत्तर में गुजरात के कच्छ, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा होते हुए हिमालय से टकराती है इससे गुजरात में कुछ वर्षा हो जाती है। राजस्थान में अरावली के दक्षिणी भाग में कुछ वर्षा हो जाती है। अधिकांश हवाएं बिना वर्षा किए आगे बढ़ जाती है क्योंकि हवाओं के मार्ग में समकोण पर कोई भी अवरोधक पर्वत स्थित नहीं है तथा राजस्थान की गर्म एवं शुष्क भूमि वर्षा के प्रतिकूल दशाएं उत्पन्न करती हैं ये हवाए आगे जाकर हिमालय पर्वत से टकराती हैं एवं समीपवर्ती क्षेत्र पंजाब में वर्षा करती हैं।

बंगाल की खाड़ी की शाखा

यह शाखा भारत के पूर्वी तट एवं पूर्वोत्तर भारत को वर्षा प्रदान करती है। दक्षिण भारत में तमिलनाडु का तट इन हवाओं के समानांतर होता है जिस कारण से तमिलनाडु इन हवाओं से ज्यादा वर्षा प्राप्त नहीं कर पाता है। ये हवाएं आगे चल कर आंध्र प्रदेश एवं ओडिशा तट से टकराती है जिनसे आंध्र प्रदेश ओडिशा, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश व पूर्वी राजस्थान में वर्षा करती है। दूसरी शाखा बांग्लादेश एवं पश्चिम बंगाल होते हुए बिहार उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब व पूर्वी राजस्थान को वर्षा प्रदान करती है। तीसरी मेघालय एवं पूर्वोत्तर शाखा बंगाल की खाड़ी से होकर आने वाली हवाएं मेघालय स्थित गारो, खासी, जयंतिया पहाड़ियों से टकराती हैं। ये कीपाकर पहाड़ियां हैं जो केवल दक्षिण की ओर खुली हुई हैं। इनमें मानसून हवाएं प्रवेश कर जाने के बाद बिना ऊपर उठे बाहर नहीं निकल पाती। ऊपर उठने से तीव्र वर्षा होती है इस कारण यहां चेरापूंजी एवं मासिनराम जहां विश्व की सर्वाधिक वर्षा होती है उत्तर-पूर्व की ओर बंगाल की खाड़ी की एक और शाखा पूर्वोत्तर में हिमालय एवं अराकानयोमा पर्वत श्रेणी से टकराती है। यहां बंगाल की खाड़ी से अनवरत आर्द्र हवाएं प्रवेश करती हैं लेकिन इन हवाओं को निकलने के लिए स्थान नहीं होता है। पीछे से आने वाली हवाएं इन आर्द्र हवाओं की आर्द्रता घनत्व को और बढ़ा देती है। उच्च आर्द्रता से युक्त मानसून हवाएं अराकान एवं हिमालय पर्वत के कारण ऊपर उठती हैं और वर्षा करती हैं। पूर्वोत्तर क्षेत्र भारत के अधिक वर्षा वाले क्षेत्र हैं। हवाओं का घनत्व लगातार बढ़ते रहने से हवाएं मुड़कर हिमालय के साथ-साथ पश्चिम की ओर जाती हैं। इन हवाओं से समस्त पूर्वोत्तर राज्य तथा पश्चिम की ओर उत्तरी पं. बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तरांचल, पंजाब, हरियाणा एवं जम्मू-कश्मीर राज्य वर्षा पाते हैं। पश्चिम की ओर बंगाल की खाड़ी की शाखाएं एक-दूसरे से मिल जाती है और परस्पर आर्द्रता को बढ़ाती हैं। जिससे पंजाब, हरियाणा तक वर्षा होती है। जैसे-जैसे हवाएं सागर तट से दूर जाती हैं सतत वर्षा करने के कारण उसमें आर्द्रता में कमी हो जाती है। इस कारण तट से दूर स्थित क्षेत्र कम वर्षा प्राप्त करते हैं। जैसे पूर्व से पश्चिम की ओर कोलकाता 157 सेमी, पटना 117 सेमी, इलाहाबाद 107 सेमी, लखनऊ 101 सेमी, दिल्ली 65 सेमी, हिसार 43 सेमी, में कम वर्षा होती है।

चक्रवातीय वर्षा

ग्रीष्मकाल होने के कारण सागरीय सतह गर्म होती है जिन पर चक्रवातों का निर्माण होता है। ये मानसन हवाओं के साथ भारतीय भूमि की ओर आते हैं। इन चक्रवातों में हवाएं ऊपर उठती हैं। आर्द्रता से भरी ये हवाएं ऊपर उठकर ठंडी होती है। ठंडी हवाओं की आर्द्रता धारण करने की क्षमता कम होती है जिससे हवा में उपस्थित जलवाष्प, जल में परिवर्तित हो जाती है और बादलों का निर्माण होता है जलवाष्प की गुप्त उष्मा मुक्त हो जाती है जो चक्रवात को ऊर्जा प्रदान करती है जिससे चक्रवात ऊर्जा प्राप्त करते हैं। जब ये चक्रवात जल से स्थल में प्रवेश करते हैं स्थल पर तेज हवाओं के साथ वर्षा प्रारंभ होती है। यदि किसी स्थान पर ये चक्रवात रुक जाते हैं तो वहां अधिक वर्षा हो जाती है। आगे बढ़ते हुए चक्रवातों के मार्ग में जब पर्वत आ जाते हैं तो पर्वतीय वर्षा व चक्रवातीय वर्षा दोनों एक साथ हो जाती है जिससे वर्षा की मात्रा अधिक हो जाती है।

मूसलाधार वर्षा

भारत में मानसून हवाओं से निर्मित बादल बरसते नहीं बल्कि पानी उड़ेलते हैं कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। भारत में वर्षा ऋतु के चार माह होते हैं लेकिन इस चार माह में सभी दिन वर्षा नहीं होती। दक्षिण भारत से उत्तर की ओर एवं उत्तर भारत में पूर्व से पश्चिम की ओर वर्षा के दिन कम होते जाते हैं। भारत में वर्षा मूसलाधार होती है। कभी-कभी वर्षा कई दिनों तक लगातार होती है जिससे अधिकांश वर्षाजल भूमिगत जल के रूप में संचय नहीं हो पाता। यह जल धरातलीय प्रवाह के रूप में नदियों के माध्यम से सागरों में पहुंच जाता है। नदियों में बाढ़ आ जाती है, निचले एवं मैदानी भागों में पानी भर जाता है, खेतों में फसलें नष्ट हो जाती है। मिट्टी का कटाव, भू-स्खलन एवं उत्तर भारत की नदियों द्वारा मार्ग बदलने की घटनाएं मूसलाधार वर्षा के परिणाम हैं।

मानसून की अनिश्चिता, अनियमितता एवं विभंगता

भारतीय मानसून का आगमन हमेशा निश्चित नहीं होता। कभी यह शीघ्र आ जाता है तो कभी यह देर से आता है। सामान्यतः एक जून को केरल, 10 जून तक मुंबई 12 से 15 जून तक मध्य भारत में, 25 जून तक पंजाब, हरियाणा एवं 1 जुलाई तक सुदूर पश्चिम में पहुंच जाता है। मानसून से होने वाली वर्षा भी नियमित नहीं है। कम वर्षा वाले क्षेत्रों में यह अनियमितता अधिक एवं अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में अनियमितता कम पाई जाती है। यही वजह है कि कम वर्षा वाले क्षेत्रों में सिंचाई की आवश्यकता अधिक है।

पर्वतीय वर्षा

भारत में जहां कहीं भी पर्वत मानसून हवाओं के मार्ग में स्थित है वहां वर्षा की मात्रा अधिक हो जाती है। पर्वत मानसूनी आर्द्र हवाओं को ऊपर उठा देते हैं जहां आर्द्र वायु संघनित होकर वर्षा कर देती है। हिमालय पर्वत, अराकानयोमा श्रेणी, मेघालय की पहाड़ियां पूर्वी घाट, पश्चिमी घाट, विध्यांचल श्रेणी, सतपुड़ा श्रेणी आदि समीपवर्ती मैदानों से अधिक वर्षा प्राप्त करते हैं। राजस्थान में स्थित अरावली पर्वत अरब सागर की मानसून शाखा के सामानांतर स्थिति है फलस्वरूप यह पर्वत हवाओं को रोकने अथवा ऊपर उठाने में सहायक नहीं है। इसलिए वहां पर्वत होते हुए भी पर्याप्त वर्षा प्राप्त नहीं हो पाती है। पर्वतों से दूर जाने पर मैदानों की ओर वर्षा की मात्रा में कमी पाई जाती है। यही वजह है कि उत्तर भारत में पूर्व से पश्चिम पर्वतीय भागों जैसे दार्जिलिंग में 250 सेमी, मसूरी में 206 सेमी, शिमला में 122 सेमी वर्षा होती है जबकि इन्हीं के लगभग समानांतर स्थित मैदानी भागों में पूर्व से पश्चिम की ओर कोलकाता में 119 सेमी, इलाहाबाद में 76 सेमी, दिल्ली में 46 सेमी, गंगानगर में 25 सेमी वर्षा होती है जो कि पर्वतीय भागों से कम है।

वैश्विक तपन एवं मानसून वर्षा

विश्व के वायुमंडल में होने वाली तापमान वृद्धि को वैश्विक तपन कहते हैं। वायु के तापमान में वृद्धि होने से उसकी आर्द्रता धारण करने की क्षमता में वृद्धि होती है। जिससे वायु पहले की तुलना में अधिक जलवाष्प को धारण कर लेती है। दक्षिण-पश्चिम मानसून सागरों के ऊपर से आती है जहां ग्रहण करने के लिए पर्याप्त जलवाष्प होती है। अधिक जल धारण करने की क्षमता एवं अधिक जल की उपलब्धता अधिक वर्षा की संभावनाओं को बढ़ा देती है। यदि अनुकूल वर्षा दशाएं उपलब्ध हो तो अधिक जलवाष्प युक्त हवाएं असाधारण रूप से अधिक वर्षा कर देती है। हाल के कुछ वर्षों में अनेक देशों में इसी प्रकार की असाधारण वर्षा हुई है। सितंबर 2009 में मुंबई में होने वाली वर्षा एवं बाढ़ भी इसी प्रकार की वर्षा है।

कैसे आता है मॉनसून

एशिया और यूरोप का विशाल भूभाग, जिसका एक हिस्सा भारत भी है, ग्रीष्मकाल में गरम होने लगता है। इसके कारण उसके ऊपर की हवा गरम होकर उठने और बाहर की ओर बहने लगती है। पीछे रह जाता है कम वायुदाब वाला एक विशाल प्रदेश। यह प्रदेश अधिक वायुदाब वाले प्रदेशों से वायु को आकर्षित करता है। अधिक वायुदाब वाला एक बहुत बड़ा हिस्सा भारत को घेरने वाले महासागरों के ऊपर मौजूद रहता है क्योंकि सागर, स्थल भागों जितना गरम नहीं होता है और इसीलिये उसके ऊपर वायु का घनत्त्व अधिक रहता है। उच्च वायुदाब वाले सागर से हवा मानसून पवनों के रूप में ज़मीन की ओर बह चलती है। दक्षिण पश्चिमी मानसून भारत के ठेठ दक्षिणी भाग में जून 1 को पहुँचता है। साधारणतः मानसून केरल के तटों पर जून महीने के प्रथम पाँच दिनों में प्रकट होता है। यहाँ से वह उत्तर की ओर बढ़ता है और भारत के अधिकांश भागों पर जून के अन्त तक पूरी तरह छा जाता है।

अरब सागर से आने वाली पवन उत्तर की ओर बढ़ते हुए 10 जून तक मुम्बई पहुँच जाती है। इस प्रकार तिरूवनंतपुरम से मुम्बई तक का सफर वे दस दिन में बड़ी तेजी से पूरा करती हैं। इस बीच बंगाल की खाड़ी के ऊपर से बहने वाली पवन की प्रगति भी कुछ कम आश्चर्यजनक नहीं होती। यह पवन उत्तर की ओर बढ़कर बंगाल की खाड़ी के मध्य भाग से दाखिल होती है और बड़ी तेजी से जून के प्रथम सप्ताह तक असम में फैल जाती है। हिमालय रूपी विघ्न के दक्षिणी छोर को प्राप्त करके यह मानसूनी धारा पश्चिम की ओर मुड़ जाती है। इस कारण उसकी आगे की प्रगति म्यांमार की ओर न होकर गंगा के मैदानों की ओर होती है।

मानसून कोलकाता शहर में मुम्बई से कुछ दिन पहले (साधारणतः जून 7 को) पहुँच जाता है। मध्य जून तक अरब सागर से बहने वाली हवाएँ सौराष्ट्र, कच्छ व मध्य भारत के प्रदेशों में फैल जाती हैं।

इसके पश्चात बंगाल की खाड़ी वाली पवन और अरब सागर वाली पवन पुनः एक धारा में सम्मिलित हो जाती हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, पूर्वी राजस्थान आदि बचे हुए प्रदेश 1 जुलाई तक बारिश की पहली बौछार अनुभव करते हैं।

उपमहाद्वीप के काफी भीतर स्थित दिल्ली जैसे किसी स्थान पर मानसून का आगमन कौतूहल पैदा करने वाला विषय होता है। कभी-कभी दिल्ली की पहली बौछार पूर्वी दिशा से आती है और कभी बंगाल की खाड़ी के ऊपर से बहने वाली धारा का अंग बनकर दक्षिण दिशा से आती है। मौसमशास्त्रियों को इस बात का निश्चय करना कठिन हो जाता है कि दिल्ली की ओर इस दौड़ में मानसून की कौन सी धारा विजयी होगी। मध्य जुलाई तक मानसून कश्मीर और देश के अन्य बचे हुए भागों में भी फैल जाता है। परन्तु एक शिथिल धारा के रूप में ही, क्योंकि तब तक उसकी सारी शक्ति और नमी खत्म हो चुकी होती है।

सर्दी में जब स्थल भाग अधिक जल्दी ठंडे हो जाते हैं तब प्रबल, शुष्क हवाएँ उत्तर-पूर्वी मानसून बनकर बहती हैं। इनकी दिशा गर्मी के दिनों की मानसून हवाओं की दिशा से विपरीत होती हैं। उत्तर-पूर्वी मानसून भारत के स्थल और जल भागों में जनवरी की शुरुआत तक, (जब एशियाई भूभाग का तापमान न्यूनतम होता हैं), पूर्ण रूप से छा जाता है। इस समय उच्च दाब की एक पट्टी पश्चिम में भूमध्य सागर और मध्य एशिया से लेकर उत्तर भाग में फैली होती है। बादलहीन आकाश, बढ़िया मौसम, आर्द्रता की कमी व हल्की उत्तरी हवाएँ इस अवधि में भारत के मौसम की विशेषताएँ होती हैं। उत्तर-पूर्वी मानसून के कारण वर्षा परिमाण में तो कम, परन्तु सर्दी की फ़सलों के लिये बहुत लाभकारी होती है।

उत्तरी-पूर्वी मानसून तमिलानाडु में विस्तृत वर्षा मानसून काल में ही करता है। सम्पूर्ण भारत के लिये औसत वर्षा की मात्रा 117 सेंटीमीटर है। वर्षा की दृष्टि से भारत एक ऐसा देश है जिसके एक भाग में प्रायः बाढ़ की स्थिति और दूसरे भाग में सूखे की स्थिति देखने को मिलती है। चेरापुँजी में साल में 1100 सेंटीमीटर वर्षा होती है, तो जैसलमेर में केवल 20 सेंटीमीटर ही। मानसून काल भारत के किसी भी भाग के लिये निरन्तर वर्षा का समय नहीं होता। कुछ दिनों तक वर्षा निर्बाध रूप से होती रहती है, जिसके बाद कई दिनों तक बादल चुप्पी साध लेते हैं। वर्षा का आरम्भ भी समस्त भारत या उसके काफी बड़े क्षेत्र के लिये अक्सर विलम्ब से होता है। कई बार वर्षा समय से पहले ही समाप्त हो जाती है या देश के किसी हिस्से में अन्य हिस्सों से कई अधिक वर्षा हो जाती है। यह अक्सर होता है और बाढ़ और सूखे की विषम परिस्थितियों से देश को जूझना पड़ता है।

भारत में वर्षा का वितरण पर्वत श्रेणियों की स्थिति पर काफी हद तक आधारित है। यदि भारत में मौजूद सभी पर्वत हटा दिये जाएँ तो वर्षा की मात्रा बहुत घट जाएगी। मुम्बई और पुणे में पड़ने वाली वर्षा इस तथ्य को बखूबी दर्शाती है। मानसूनी पवन दक्षिण पश्चिमी दिशा से पश्चिमी घाट को आने लगती है जिसके कारण इस पर्वत के पवनाभिमुख भाग में भारी वर्षा होती है। मुम्बई शहर, जो कि पश्चिमी घाट के इस ओर स्थित है, में लगभग 187.5 सेंटीमीटर वर्षा होती है, जबकि पुणे, जो कि पश्चिमी घाट के पवनाभिमुख भाग से केवल 160 किलोमीटर के फासले पर स्थित है, में मात्र 50 सेंटीमीटर वर्षा होती है।

पर्वत श्रेणियों के कारण होने वाली वर्षा का एक अन्य उदाहरण उत्तर-पूर्वी भारत में स्थित चेरापूँजी है। इस छोटे से कस्बे में वर्ष में औसतन 1100 सेंटीमीटर तक वर्षा होती है जो एक समय विश्वभर में सर्वाधिक समझी जाती थी। यहाँ वर्षा वाले प्रत्येक दिन 100 सेंटीमीटर तक वर्षा हो सकती है। यह विश्व के अनेक हिस्सों में वर्ष भर में होने वाली वर्षा से भी अधिक है।

चेरापूँजी खासी पहाड़ियों के दक्षिणी ढलान में दक्षिण से उत्तर की ओर जाने वाली एक गहरी घाटी में स्थित है। इस पहाड़ी की औसत ऊँचाई 1500 मीटर है। दक्षिण दिशा से बहने वाली मानसूनी हवाएँ इस घाटी में आकर फँस जाती हैं और अपनी नमी को चेरापूँजी के ऊपर उड़ेल देती हैं। एक कौतूहलपूर्ण बात यह है कि चेरापूँजी में अधिकांश बारिश सुबह के समय होती है।

चूँकि भारत के अधिकांश भागों में वर्षा केवल मानसून के तीन चार महीनों में होती है, बड़े तालाबों, बाँधों और नहरों से दूर स्थित गाँवों में शेष महीनों में पीने के पानी का संकट हो जाता है। उन इलाकों में भी जहाँ वर्षाकाल में पर्याप्त बारिश होती है। पानी के संचयन की व्यवस्था की कमी के कारण मानसून पूर्व काल में लोगों को कष्ट सहना पड़ता है।

भारतीय वर्षा न केवल बहुत भारी होती है बल्कि एक बहुत छोटी सी अवधि में ही हो जाती है, जिसके कारण वर्षाजल को ज़मीन के नीचे उतरने का अवसर नहीं मिल पाता। वर्षाजल तुरन्त बहकर बरसाती नदियों के सूखे पाटों को कुछ दिनों के लिये भर देता है और बाढ़ का कारण बनता है। ज़मीन में कम पानी रिसने से वर्षभर बहने वाले झरने कम ही होतेे हैं और पानी को सोख लेने वाली हरियाली पनप नहीं पाती। हरियाली रहित खेतों में वर्षा की बड़ी-बड़ी बूँदें मिट्टी को काफी नुकसान पहुँचाती हैं। मिट्टी के ढेले उनके आघात से टूटकर बिखर जाते हैं और अधिक मात्रा में मिट्टी का अपरदन होता है।

मानसून : समय में परिवर्तन

आज ग्लोबल वार्मिंग का असर पूरे भारत में साफ दिखाई देने लगा है। गत 37 वर्षों के मौसम सम्बन्धी आँकड़ों के विश्लेषण से साफ है कि प्रदेश में मानसून करीब 7 से 8 दिन की देरी से आ रहा है। तीन-चार दशक पहले की तरह अक्टूबर के दौरान अब अच्छी बारिश नहीं हो रही है। मौसम विभाग भी मानसून के आगमन की तारीख बदलने की तैयारी में जुट गया है। ऐसी स्थिति में कृषि योजना सहित खेती से जुड़ी सारी योजनाओं को नए सिरे से प्लान करना होगा।

मौसम विभाग के अनुसार छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और विदर्भ में मानसून के प्रवेश की सामान्य तिथि 10 जून होती है। लेकिन पिछले साढ़े तीन दशक के आँकड़े अलग ही कहानी कह रहे हैं। इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम वैज्ञानिकों ने मानसून के प्रवेश की सही तारीख का पता लगाने के उद्देश्य से वर्ष 1971 से लेकर 2008 तक के आँकड़ों का विश्लेषण किया जिसके फलस्वरूप यह ज्ञात हुआ कि इन 37 सालों में सबसे जल्दी मानसून 1971 में (तीन जून को) आया था। मानसून के सर्वाधिक विलम्ब से पहुँचने का रिकार्ड 1987 का है, जब बारिश की पहली झड़ी पाँच जुलाई को आई थी।

वैज्ञानिकों का कहना है कि मानसून के प्रदेश में प्रवेश की तारीख का औसत 18 जून है। इस तिथि से छह दिन आगे या पीछे (यानि 12 से 24 जून के बीच) मानसून आने लगा है। इस अवधि में केवल पाँच साल (1971, 1977, 1984, 1993, 2001) मानसून 18 जून के पहले और तीन साल (1987, 2006, 2008) इस तिथि के बाद आया। इस दौरान जून में बारिश का औसत 194 मिमी आ रहा है। मानसून का समय बदलने के पीछे सबसे अहम वजह ग्लोबल वार्मिंग है।

किसी एक दिन में बहुत ज्यादा बारिश या बहुत लम्बे समय तक सूखा इसके स्पष्ट संकेत हैं। ग़ौरतलब है कि 2007 में 18 जून को एक ही दिन में 370 मिमी बारिश हुई थी। 11 जून 2004 में भी 173 मिमी बारिश हुई थी। मौसम विभाग का अनुमान है कि आने वाले सालों में जलवायविक परिवर्तनों (क्लाइमेटिकल चेंजेज) की वजह से उष्ण कटिबन्धीय क्षेत्र (ट्राॅपिकल एरिया) में बारिश कम होगी।

मौसम विभाग के निदेशक एम एल साहू ने बताया कि 10 जून की तारीख वर्ष 1950 से 1980 तक के आँकड़ों के आधार पर तय की गई है, जबकि उसके बाद मौसम में काफी बदलाव आये हैं। 1980 से 2008 तक के आँकड़ों के आधार पर एक रिपोर्ट मुख्यालय को भेजी जा चुकी है। मध्य भारत में इसके हिसाब से मानसून के आने की तारीख करीब एक हफ्ते बाद 16 जून के आसपास की आ रही है।

वर्षा : दिन हो रहे हैं कम

सामान्यतः एक दिन में 3 मिमी या उससे अधिक बारिश होने पर उस दिन को वर्षा वाला दिन माना जाता है। सन् 2009 के मानसून में 3 मिमी से अधिक बारिश वाले दिनों की कुल संख्या 31 रही है जो पिछले 20 सालों में सबसे कम है। पिछले दो दशकोें के बारिश के आँकड़े बताते हैं कि राजधानी में वर्षा वाले दिनों की औसत संख्या 1980 के पूर्व के औसत की तुलना में लगातार घट रही है।

वैज्ञानिक इस तरह कम हो रहे वर्षा के दिनों की दीर्घकालीन औसत को राजधानी में जलवायु परिवर्तन की दस्तक मान रहे हैं। राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन संस्थान, नई दिल्ली में जल-मौसम विज्ञान के अनुसार जलवायु परिवर्तन किसी स्थान पर तापमान, बारिश या आर्द्रता के दीर्घकालीन औसत (सामान्यतः एक या दो दशक या उससे अधिक) में आये परिवर्तनों के रूप में व्यक्त होता है। वर्षा के दिन कम होना और अतिवृष्टि की घटनाएँ बढ़ना जलवायु परिवर्तन के कई लक्षणों में से एक है।
वर्षा वाले दिन कम होने का अनुभव आज शहर के नागरिक भी कर रहे हैं। पर्यावरण पर नजर रखने वाले बागची का कहना है कि पहले सात-सात दिनों तक बारिश नहीं रुकती थी। उस दौरान लगातार कभी तेज तो कभी धीमी बारिश होती ही रहती थी। अब तो दिन में 3-4 घंटे लगातार बारिश होना भी बड़ी बात लगती है। जुलाई-अगस्त में कुछ दिन तेज बारिश होती है तो कुछ दिन तेज धूप और सूखा रहता है। यह जलवायु परिवर्तन के ही लक्षण हैं। प्रतिवर्ष कम हो रहे वर्षा के दिनों की जानकारी को निम्न सारणी में दर्शाया गया है:

ग्लोबल वार्मिंग के कारण मानसून में देरी

वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार ग्लोबल वार्मिंग के कारण अगली सदी तक विश्व के ग्रीष्मकालीन मानसून में पाँच से पन्द्रह दिन का विलम्ब हो सकता है। इसके अतिरिक्त भारत सहित दक्षिण एशिया के बड़े हिस्से में वर्षा का स्तर काफी कम भी हो सकता है। अध्ययन के अनुसार वैश्विक तापमान में वृद्धि से मानसून पूर्व की ओर रूख कर सकता है, जिससे हिन्द महासागर, म्यांमार और बांग्लादेश में तो खूब बारिश होगी लेकिन पाकिस्तान, भारत तथा नेपाल में वर्षा का स्तर कम ही रहेगा। इस वजह से वर्षा का मौसम भी लम्बे समय बाद आने की आशंका होगी और पश्चिमी भारत, श्रीलंका तथा म्यांमार के कुछ समुद्रतटीय इलाकों में औसतन वर्षा में बढ़ोत्तरी होने से घातक बाढ़ आने का खतरा भी बढ़ सकता है।

(साभार- इंडिया वाटर पोर्टल)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here