अहमदाबाद विश्व सांस्कृतिक धरोहर में शामिल होने वाला पहला भारतीय शहर, जानें- इसका कारण व जुड़े तथ्य

0
1082

भारत का ‘ऐतिसाहिक शहर अहमदाबाद’ 8 जुलाई, 2017 को विश्व विरासत समिति के 41वें सत्र के दौरान यूनेस्को की विश्व विरासत की सूची में स्थान पाने में सफल रहा। अहमदाबाद विश्व विरासत की सूची में शामिल होने वाला भारत का पहला और एशिया का तीसरा शहर है। पिछले तीन वर्षों में भारत के पांच निर्मित विरासत स्थल यूनेस्को की विश्व विरासत की सूची में शामिल हुए हैं।

भारत में अब 28 सांस्कृतिक, 7 प्राकृतिक और एक मिश्रित स्थल के साथ कुल 36 विश्व विरासत शिलालेख हैं। भारत का एएसपीएसी (एशिया और प्रशांत) क्षेत्र में विश्व विरासत संपत्ति की सूची में चीन के बाद दूसरा स्थान है और विश्व में 7वां स्थान है।

इसके लिए तुर्की, लेबनान, ट्यूनीशिया, पुर्तगाल, पेरू, कजाकिस्तान, वियतनाम, फिनलैंड, अज़रबैजान, जामैका, क्रोएशिया, ज़िम्बाब्वे, तंजानिया, दक्षिण कोरिया, अंगोलम और क्यूबा समेत करीब 20 देशों ने अहमदाबाद का समर्थन किया। इन देशों ने अहमदाबाद को नक्काशीदार लकड़ी की हवेली की वास्तुकला के अलावा सैकड़ों वर्षों से इस्लामिक, हिंदू और जैन समुदायों के एक धर्मनिरपेक्ष सह-अस्तित्व वाला शहर मानते हुए सर्वसम्मति से चुना। देशों ने यह भी माना कि शहर महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारत के अहिंसक स्वतंत्रता संग्राम के लिए भी खास महत्व रखता है।

यूनेस्को समिति ने पिछले दिनों अहमदाबाद के अलावा कंबोडिया में समबोर पेरी कुक के मंदिर क्षेत्र के अलावा चीन के कलाँगसो को भी विश्व विरासत सूची में शामिल किया है। गौरतलब है कि इस दौड़ में भारतीय राजधानी दिल्ली और आर्थिक राजधानी कहे जाने वाला शहर मुंबई भी थे। संस्था ने अपनी साइट पर इस बारे में लिखा है कि ‘अहमदाबाद के क़िलेबंद शहर को सुल्तान अहमद शाह ने 15 वीं सदी में नदी साबरमती के किनारे बसाया था। यह शहर वास्तुकला का शानदार नमूना पेश करता है जिसमें छोटे किले, क़िलेबंद शहर की दीवारों और दरवाज़ों के साथ कई मस्जिदों और मकबरे महत्वपूर्ण हैं।’ इसमें कहा गया है कि ‘इसमें बाद में बनाए हिंदू और जैन धर्म के मंदिर भी शामिल हैं। यह शहर छठी शताब्दी से अब तक गुजरात की राजधानी के रूप में बना हुआ है।

यूनेस्को में भारत की राजदूत व स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कम्बोज ने अपने ट्विटर हैंडल से खुशी जाहिर करते हुए कहा है, ‘यह घोषित करते हुए मैं बहुत खुश हूं कि यूनेस्को द्वारा अहमदाबाद को भारत का पहला विश्व धरोहर वाला शहर घोषित किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here