नासा का दावा: शनि ग्रह के चंद्रमा पर जीवन के अनुकूल माहौल, पानी के भी मिले सबूत…

0
449

नासा के अनुसार, शनि ग्रह के ‘एनसेलडिस’ चंद्रमा में करीब-करीब वे सभी बुनियादी चीज़ें मौजूद हैं, जो जीवन के लिए ज़रूरी हैं। शनि के छठें सबसे बड़े चंद्रमा ‘एनसेलडस’ पर मिले पानी और उसमें मिले हाइड्रोजन रसायन के बाद नासा का दावा है कि वहां जीवन हो सकता है। नासा के कैसनीनि अतंरिक्षयान ने एनसेलडस पर एक पानी का समुद्र खोजा है।एनसेलडिस में मिले हाइड्रोजन गैस के साक्ष्यों से पता चला है कि वहां जीवन जीने के लिए ज़रूरी चीज़ें पानी, मेटाबोलिज़्म प्रक्रिया के लिए ऊर्जा का स्रोत और उचित रासायनिक अवयव (कार्बन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन) मौजूद हैं। जांच करने पर पता चला कि उसमें 98 प्रतिशत पानी ही है। बाकी दो प्रतिशत में हाइड्रोजन, कार्बन डाइऑक्साइड और मीथेन के अलावा और भी कार्बनिक निशान पाए गए हैं जो वहां जीवन की संभावना का संकेत देते हैं।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने दावा किया है कि पृथ्वी के ही ब्रहमांड में एलियन मौजूद हो सकते हैं। एनसेलडस पर मिले पानी का निरीक्षण करने वाले सैन ऐन्टोनियो के हंटर वेट ऑफ द साउथवेस्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट ने एक बयान में कहा कि यहां ऊर्जा का वह स्रोत है जिसे सूक्ष्म जीव इस्तेमाल करते हैं। बयान के अनुसार, वहां फॉसफोरस और सल्फर नहीं मिला वो भी शायद इसलिए क्योंकि वह काफी कम मात्रा में थे। हालांकि अभी इस पर खोज जारी है।

बैक्टीरिया का अस्तित्व संभव

नासा के वैज्ञानिकों का मानना है कि एनसेलडस पर पाए गए समुद्र की सतह पर बैक्टीरिया का अस्तित्व संभव है। वैज्ञानिक लिंडा स्पिलकर ने कहा कि हमें यहां पर जीवों के होने के सबूत नहीं मिले हैं। हालांकि जीवन के लिए जरूरी लगभग सभी चीजें यहां मौजूद हैं। हालांकि उन्होंने कहा, शनि के एक चंद्रमा पर जीवन के होने के लिए रासायनिक उर्जा की पुष्टि दूसरी दुनिया की हमारी खोज में एक बड़ा मील का पत्थर है।

चंद्रमा के 15 फीसदी के बराबर

एनसेलडस का आकार काफी छोटा है। यह धरती के चंद्रमा के मात्र 15 फीसदी हिस्से जितना ही बड़ा है। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में फिजिक्स के प्रोफेसर एंड्रयू कोट्स ने कहा, हमारे ब्रहमांड में पृथ्वी के बाहर जिन ग्रहों पर जीवन होने की संभावना है उनमें मंगल और यूरोपा के बाद अब एनसेलडस भी शामिल हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here