कोल्लम (केरल) की करीब 22 वर्षीय सुश्री वर्ष 2017 की संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा में सफलता हासिल करने वाली सबसे कम उम्र की प्रतियोगी रही हैं। उन्होंने पहले ही प्रयास में इस परीक्षा में 151वां स्थान हासिल किया। सुश्री के पिता पीटी सुनील कुमार केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) में रह चुके हैं और वे 2004 से 2010 के बीच स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) का हिस्सा रहे तथा पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह की सुरक्षा में भी तैनात रह चुके हैं।

सुश्री अपने बचपन के दिनों को याद करती हुई बताती हैं “साल 2008 में जब वो 14 साल की थी तो उन्हें मनमोहन सिंह और उनकी वाइफ गुरुचरण कौर को बुके देने का मौका मिला था। तब मनमोहन सिंह ने मुझसे मेरे सपने के बारे में पूछा था। तब मैंने कहा था कि मैं सिविल सर्वेंट बनना चाहती हूं। तब उन्होंने मुझे आशीर्वाद दिया था। मैं बहुत खुश हुई थी।” सुश्री ने कहा, “जब उनकी मुलाकात मनमोहन सिंह से हुई थी तब कुछ सीनियर आईएएस अधिकारियों से भी मिलीं और उस वक्त असम व मेघालय के पूर्व डीजीपी एन रामचंद्रन ने काफी प्रभावित किया।

सुश्री की उपलब्धि के बारे में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के महानिदेशक सुदीप लखटकिया ने कहा, “यह एसपीजी के लिए एक सुखद क्षण है।” बता दें कि जब सुश्री के पिता सुनील एसपीजी में थे तब वो सुदीप लखटकिया को रिपोर्ट करते थे। इस बीच, सीआरपीएफ ने भी सुश्री की तारीफ की। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “सीआरपीएफ ने अपनी बेटी सुश्री की सफलता पर इंस्पेक्टर (रिटायर) पीटी सुनील कुमार को बधाई दी।”

सिविल परीक्षा में 51 मुस्लिम समेत रिकॉर्ड 131 अल्पसंख्यकों का चयन

अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया है कि आज़ादी के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब सिविल सेवा परीक्षा-2017 के 990 सफल अभ्यर्थियों में से 51 मुस्लिम समेत अल्पसंख्यक समुदाय के 131 युवाओं को चुना गया है। उन्होंने बताया कि 2016 की परीक्षा में 52 मुस्लिम सहित 126 अल्पसंख्यक युवाओं का चयन हुआ था।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि इस बार सिविल सेवा में कुल 990 अभ्यर्थियों का चयन हुआ और इनमें मुस्लिम समुदाय के 51 युवा शामिल हैं। पिछले साल 1099 लोगों का चयन हुआ था और इसमें अल्पसंख्यक समाज के 126 युवा चुने गए थे, जिनमें 52 मुस्लिम शामिल थे।

यूपीएससी की सिविल सेवा प्री परीक्षा 2018 के लिए प्रवेश पत्र जारी, जान लें ये खास दिशानिर्देश…

नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक मंत्रालय ने पिछले तीन वर्षों के उत्साहवर्धक नतीजों से उत्साहित होकर फ्री-कोचिंग स्कीमों को और आसान, सुविधायुक्त एवं सुलभ बनाया है। नई उड़ान, नया सवेरा योजना को संशोधित किया गया है और इसके तहत सिविल सेवा परीक्षा की प्रीलिम्स में पास होने वाले अभ्यर्थियों को सहायता राशि 50,000 रूपये से बढ़ाकर 1 लाख रुपये कर दी गई है।

UPSC प्री के लिए 30 दिन से भी कम समय बाकी, तैयारी को दें अंतिम रूप, इन बातों का रखें खास ध्यान…

गौरतलब है कि सिविल सर्विस परीक्षा 2017 में डुरीशेट्टी अनुदीप ने प्रथम स्थान हासिल किया है। वहीं, अनु कुमारी को इस परीक्षा में दूसरा और सचिन गुप्ता को तीसरा स्थान हासिल हुआ है। इस परीक्षा में 180 आईएएस, 42 आईएफएस (विदेश सेवा) और 150 आईपीएस अधिकारियों का चयन हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here