UPSC ने निकाली असिस्टेंट कमांडेंट की वैकेंसी, जानें- कैसे करें तैयारी, सफलता के लिए जरूरी हैं ये टिप्स…

0
54

यूपीएससी ने सेंट्रल आ‌र्म्ड पुलिस फोर्सेस (असिस्टेंट कमांडेंट) एग्जाम-2019 के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। यूपीएससी ‘सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्सेस एग्जामिनेशन-2019’ के तहत असिस्टेंट कमांडेंट के 323 पदों को भरेगा। इस परीक्षा के तहत बीएसएफ, सीआरपीएफ, सीआइएसएफ व एसएसबी में असिस्टेंट कमांडेंट की भर्ती की जाएगी। इच्छुक उम्मीदवार 20 मई तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

रिक्तियों का विभाजन
बीएसएफ, पद : 100
सीआरपीएफ, पद : 108
सीआईएसएफ, पद : 28
एसएसबी, पद : 66 और आईटीबीपी– 21

योग्यता : मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी/ संस्थान से बैचलर डिग्री प्राप्त हो।

न्यूनतम शारीरिक मापदंड

कद : 165 सेमी (महिला-157 सेमी)। सीना (सिर्फ पुरुष) : 81 सेमी और फुलाने पर 86 सेमी। वजन : 50 किलोग्राम (महिला-46 किलोग्राम)।

आयु सीमा : न्यूनतम 20 वर्ष और अधिकतम 25 वर्ष से कम हो। अधिकतम आयु सीमा में एससी/ एसटी और ओबीसी को नियमानुसार छूट प्राप्त होगी। आयु की गणना एक अगस्त 2017 के आधार पर की जाएगी।

चयन प्रक्रिया: चयन लिखित परीक्षा, फिजिकल एवं मेडिकल टेस्ट व व्यक्तित्व परीक्षण के आधार पर किया जाएगा।

 

आवेदन शुल्क : 200 रुपये। इसका भुगतान ई-चालान से करना होगा। एससी/ एसटी और महिलाओं को शुल्क के भुगतान से छूट प्राप्त होगी।

ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि: 05 मई (शाम 6 बजे तक) 
फोन : 011-23385271
वेबसाइट : www.upsc.gov.in

 

कैसे होगा चयन
सहायक कमांडेंट बनने के लिए उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा, फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट (पीईटी) और मेडिकल स्टैंडर्ड टेस्ट से होकर गुजरना पड़ता है। लिखित परीक्षावपास करने वालों को पीईटी/मेडिकल टेस्ट से गुजरना होगा। पीईटी/मेडिकल टेस्ट में पास होने पर इंटरव्यू/पर्सनेलिटी टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा। फाइनल सेलेक्शन मेरिट के आधार पर होगा। लिखित परीक्षा और इंटरव्यू/पर्सनेलिटी टेस्ट में मिले नंबरों के आधार पर मेरिट लिस्‍ट बनाई जाती है।

कैसी होगी लिखित परीक्षा
लिखित परीक्षा में दो पेपर होंगे। यूपीएससी ने न्यूनतम क्वालिफायिंग मार्क्स निर्धारित किए हुए हैं। पहले पेपर में जब आपके क्वालिफायिंग मार्क्स आएंगे उसके बाद ही आपका दूसरा पेपर चेक किया जाएगा।

पेपर-1 जनरल एबिलिटी और इंटेलीजेंस का होता है। यह दो घंटे का ऑब्जेक्टिव टाइप पेपर होता है। इसमें कुल 250 अंकों के प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रश्न पत्र हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में होगा। इसमें जीके, मैथ्स और रीजनिंग के प्रश्न पूछे जाएंगे। यहां ध्यान रखने वाली बात ये है कि इस परीक्षा में अलग से कोई मैथ्स-रीजनिंग का पेपर नहीं है। एक ही प्रश्न पत्र में जीके, मैथ्स और रीजनिंग के प्रश्न पूछे जाएंगे। ऐसे में अगर मैथ्स में कमजोर आवेदक जीके और रीजनिंग में अच्छा स्‍कोर करते हैं तो उनके इस पेपर को पास करने की काफी संभावनाएं हैं। मैथ्स के अलावा आपसे रीजनिंग, जनरल साइंस, करंट अफेयर्स, इंडियन पॉलिटिक्स और इकनॉमी, इंडियन हिस्ट्री, इंडियन और वर्ल्ड ज्योग्राफी से संबंधित सवाल पूछे जाएंगे। अगर इनमें आप अच्छा प्रदर्शन कर देते हैं तो काफी हद तक आप बाजी मार जाएंगे। इसके लिए विगत वर्षों के प्रश्न पत्रों को जरूर सॉल्व करें। इसमें स्पीड और एक्यूरेसी का जरूर ध्यान रखें।

जहां तक लिखित परीक्षा का सवाल है, तो इसकी तैयारी के लिए समाचार पत्रों, स्तरीय प्रतियोगिता पत्रिकाओं, एनसीईआरटी की 12वीं तक की पुस्तकों से तैयारी करें और छोटे-छोटे नोट्स बनाकर भी रखें, ताकि इसकी सहायता से अंतिम समय में रिवीजन कर सकें। डीडी बसु और सुभाष कश्यप द्वारा लिखित भारतीय संविधान, विपिन चंद्र की भारत का स्वतंत्रता संघर्ष, मिश्रा और पुरी की भारतीय अर्थव्यवस्था आदि की भी मदद ले सकते हैं। सम-सामयिकी की तैयारी के लिए बाजार में उपलब्ध पत्रिकाओं को पढ़ें। इसके अतिरिक्त देश-विदेश में घटित महत्वपूर्ण घटनाओं, खेलों तथा संधियों को रेडियो या टीवी के माध्यम से गहरी नजर रखें। निबंध प्रश्नपत्र के माध्यम से उम्मीदवारों के विचार, त्रुटिरहित वर्तनी, व्याकरण की दृष्टि से शुद्ध भाषा में प्रस्तुत कर पाने की योग्यता का परीक्षण किया जाएगा। इसके अतिरिक्त इस प्रश्नपत्र से उम्मीदवारों की संक्षेपण लेखन तथा कॉम्प्रिहेंशन के लिए दिए गए पैराग्राफ को समझने तथा संक्षेपण उद्धरण का सार लिखने की निपुणता और कॉम्प्रिहेंसन उद्धरण में लघु प्रश्नों के जवाब देने की योग्यता का परीक्षण भी किया जाता है। इस कारण आप इस पर विशेष ध्यान दें।

पेपर-2 में दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाते हैं। पेपर में निबंध, प्रेसिस राइटिंग और कॉम्प्रिहेंशन आएंगे. यह पेपर कुल 200 अंकों और तीन घंटे का होता है. निबंध हिंदी या अंग्रेजी किसी भी भाषा में लिखा जा सकता है, जबकि प्रेसिस राइटिंग, कॉम्प्रिहेंशन समेत अन्य सवालों का मीडियम अंग्रेजी ही होगा। इसमें इंगलिश सेक्शन बहुत महत्वपूर्ण होता है। खासतौर से दीर्घउत्तर वाले प्रश्नपत्र में इंगलिश के निबंध लिखने होते हैं। सारे निबंध करेंट टॉपिक से संबंधित होते हैं। इसलिए तैयारी के लिए अच्छी भाषा के साथ ही विषयों का गहरा ज्ञान भी जरूरी है। अच्छी किताब से निबंध लिखने के प्रारूप को सीखें। इसके साथ ही लिखने की रफ्तार को बेहतर करने पर ज्यादा जोर देना चाहिए।

पीईटी/मेडिकल टेस्ट 
1. लिखित परीक्षा में सफल होने के बाद स्टूडेंट्स को फिजिकल एफिशिएंसी टेस्ट (पीईटी) से गुजरना होता है. इसमें 100 एवं 800 मीटर की दौड़, लंबी कूद, ऊंची कूद, गोला फेंकना जैसे परीक्षण कार्य कराए जाते हैं.

2. पुरुषों को 100 मीटर की दौड़ 16 सेकेंड और महिलाओं को 18 सेकेंड में, 800 मीटर की दौड़ पुरुषों को 3 मिनट 45 सेकंड और महिलाओं को 4 मिनट 45 सेकेंड में पूरी करनी होती है.

3.
 साढ़े तीन मीटर ऊंची कूद के लिए पुरुषों को तीन मौके मिलते हैं जबकि महिलाओं को 3 मीटर के 3 मौके मिलते हैं। इसी तरह गोला क्षेपण (7.26 किग्रा) साढ़े चार मीटर का होता है। महिलाओं को इसके लिए छूट मिलती है. इसके बाद उम्मीदवारों का मेडिकल टेस्ट होता है.

इंटरव्यू से जुड़ी जानकारी
मेडिकल टेस्‍ट में सफल होने के बाद उम्मीदवार को इंटरव्यू या पर्सनेलिटी टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। यह पर्सनेलिटी टेस्ट 200 अंकों का होता है और इस दौरान आवेदकों से उनकी पर्सनेलिटी, एकेडमिक और हॉबी से जुड़े सवाल पूछे जा सकते हैं।

(अगर आप किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के बारे में जानना चाहते हैं तो आप अपना सवाल हमें knowledgefirsteducational@gmail.com पर भेज सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here