संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने विभिन्न सिविल सेवाओं के लिए आरक्षित सूची में शामिल 66 और उम्मीदवारों के नाम की सिफारिश की है। सिविल सेवा परीक्षा 2017 के परिणाम की घोषणा 27 अप्रैल को की गई थी। भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय विदेश सेवा और भारतीय पुलिस सेवा सहित अन्य सेवाओं की नियुक्ति के लिए 990 अभ्यर्थियों की सिफारिश की गई थी जबकि 1,058 नियुक्तियां थी।

यूपीएससी द्वारा जारी बयान के अनुसार अब 66 अभ्यर्थियों की सिफारिश की गई है जिनमें सामान्य श्रेणी के 48, अन्य पिछड़ा वर्ग के 16, अनुसूचित जाति के एक और अनुसूचित जनजाति के एक अभ्यर्थी शामिल हैं। इन 66 अभ्यर्थियों की सूची यूपीएससी की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

इससे पहले यूपीएससी ने सिविल सेवा परीक्षा- 2017 के सभी चयनित अभ्यर्थियों की अंक सूची को सार्वजनिक कर दिया था। इस बार यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले 1099 अभ्यर्थियों में 55 फीसदी अंक प्राप्त कर हैदराबाद के अनुदीप डुरीशेट्टी ने टॉप किया था। डुरीशेट्टी अनुदीप को कुल 2025 में से 1126 अंक मिले थे। इनमें मेन्स में 950 और इंटरव्यू में 176 अंक मिले थे। वहीं, दूसरे नंबर पर रही अनु कुमारी को इससे मात्र 2 अंक कम 1124 मिले थे, जबकि तीसरे नंबर पर रहे सचिन गुप्ता को 1122 नंबर मिले। ध्यान हो कि पिछले साल के टॉपर को 1120 अंक मिले थे।

 

सिविल सेवा की परीक्षा में हिस्सा लेने वाले 990 सफल प्रतिभागियों में एच. भारद्वाज अंकों की सूची में सबसे नीचे रहे थे और उन्होंने 830 अंक हासिल किया था। वहीं, इस परीक्षा को पास करने वाले टॉप थ्री प्रतिभागियों के बीच केवल 4 नंबर का अंतर है। पहले स्थान पर डुरीशेट्टी को 1126 नंबर मिले हैं जबकि अनु कुमारी 1124 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं। तीसरे नंबर पर सचिन गुप्ता को 1122 नंबर हासिल हुए हैं।

गौरतलब है कि यूपीएससी 2016 परीक्षा की टॉपर कर्नाटक की नंदिनी के. आर. को 1120 (55%) जबकि 2015 की टॉपर टीना डाबी को परीक्षा में 52.49 फीसदी अंक मिले थे। यूपीएससी फाइनल परीक्षा 2017 में कुल 990 अभ्यर्थी सफल हुए हैं। इनमें सामान्य वर्ग के 476, अति पिछड़ा वर्ग के 275, अनुसूचित जाति के 165, अनुसूचित जनजाति के 74 उम्मीदवार शामिल हैं। इस परीक्षा में 180 आईएएस, 42 आईएफएस (विदेश सेवा) और 150 आईपीएस अधिकारियों का चयन हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here