भारतीय समाज के परम्परागत मूल्यों एवं मानकों में वृद्धजनों को सम्मान देना और देखभाल करने पर बल दिया जाता था। लेकिन, हाल के समय में समाज में धीरे-धीरे लेकिन निश्चित तौर पर संयुक्त परिवार प्रणाली में विघटन हो रहा है परिणामस्वरूप भावात्मक, शारीरिक और वितीय सहायता की कमी से काफी संख्या में माता-पिता की उनके परिवारों दवारा उपेक्षा की जा रही है। ये वृद्धजन पर्याप्त सामाजिक सुरक्षा की कमी में अनेक समस्याओं का सामना कर रहे हैं। इससे स्पष्ट है कि वृद्धावस्था एक बड़ी सामाजिक चुनौती बन गई है और वृद्धजनों की आर्थिक और स्वास्थ्य जरूरतों को पूरा करने और वृद्धजनों की भावात्मक जरूरतों के प्रति संवेदनशील सामाजिक वातावरण बनाए जाने की आवश्यकता है।

एक अनुमान के अनुसार, वर्ष 2016 में भारत में 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों की आबादी बढ़कर वर्ष 2016 में 11.6 करोड़ हो गई है जो वर्ष 2021 में 14.3 करोड़ तथा वर्ष 2026 में 17.3 करोड़ हो जाने की आशा है। जीवन प्रत्याशा में सतत वृद्ध होने से लम्बी आयु तक जीवन जीने वाले व्यक्तियों की संख्या और अधिक हो गई है। पिछले कुछ वर्षों में, वरिष्ठ नागरिकों को आबादी के अनुपात में सतत वृदधि होने के मुख्य कारणों में स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं में सामान्य सुधार होना एक कारण है। यह सुनिश्चित करना चुनौतीपूर्ण है कि वे न सिर्फ लम्बी आयु तक जीवन जीते हैं बल्कि सुरक्षित, सम्मानपूर्ण एवं सृजनशील जीवन जीते हैं।

हमारे समाज में बहुत समय से वृद्ध एवं वृद्धावस्था पर ध्यान नहीं दिया गया हैं जिसके कारण भारत में 65% बुजुर्ग घरेलु हिंसा व प्रताड़ना एवं अकेलेपन का शिकार होते हैं। आंकड़ों के अनुसार, हमारे देश में लगभग 15,000 वृद्धाश्रम की जरुरत हैं जिसमे से 750 वृद्धाश्रम ही जीवंत हैं और इसी कारण प्यार व इज्जत से जीने के हकदार बुजुर्ग आज बहुत ही विकट एवं विपरीत परिस्थितियों में रहने को मजबूर हैं।

इसी को देखते हुए ‘Wishes and Blessings’ ने अपना एक उद्देश्य बनाया हैं कि वह अनेक वृद्धाश्रमों का निर्माण करेगा जिनमे उनके पहले वृद्धाश्रम ‘Mann Ka Tilak’ की स्थापना 25 अप्रैल 2018 को हुई है। इस ट्रस्ट का उद्देश्य वृद्ध व्यक्तियों को मौलिक सुविधाएं जैसे आश्रय, भोजन, चिकित्सा देखभाल और मनोरंजन के अवसर प्रदान करते हुए और सरकारी/गैर-सरकारी संगठन(एनजीओ)/पंचायती राज संस्थाएं(पीआरआई)/स्थानीय निकाय और व्यापक स्तर पर समुदाय के क्षमता निर्माण के लिए समर्थन प्रदान करने के माध्यम से बेहतर जीवन स्तर प्रदान करना है।

आपको बता दें कि ‘Wishes and Blessings’एक निजी चैरिटेबल ट्रस्ट हैं जो केवल वृद्ध एवं बेसहारा महिलाओं के लिए बनाया गया हैं, जिसका उद्देश्य इन वृद्ध एवं बेसहारा महिलाओं को एक नई व गौरवपूर्ण जिंदगी देने की है। साथ ही, उन्हें सभी प्रकार की सुविधाएं जिनके वह हकदार हैं निशुल्क रूप से प्रदान की जाएगी जिनसे उनका जीवन खुशहाल एवं सुखी बनाया जा सके।

Note- यदि आप कोई बेसहारा बुजुर्ग महिला को देखते हैं जिन्हे घर एवं मदद की जरूरत हो कृपया निचे दिए गए नंबर पर संपर्क करे:

डॉ गीतांजलि चोपड़ा-9873422455

जुनैद- 9205248664

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here