बिल गेट्स को पछाड़ दुनिया में सबसे अमीर बने एमेजॉन के सीईओ, कभी थे मैकडॉनल्ड्स में कुक

0
298

एमेज़ॉन के सीईओ जेफ बेजोस दुनिया के सबसे अमीर शख्स के साथ-साथ अब तक के सबसे अमीर शख्स बन गए हैं। बेजोस ने बिल गेट्स को पीछे छोड़ ये उपलब्धि अपने नाम की है। जेफ बेजोस ($106 अरब) कभी मैकडॉनल्ड्स में कुक के तौर पर काम कर चुके हैं। बेज़ोस ने 1994 में सिएटल में अपने गैराज से एमेज़ॉन की शुरुआत की थी और सिर्फ किताबें बेचते थे। शुक्रवार को 54 साल के हुए बेज़ोस ने 2017 में अपनी नेटवर्थ में $32.6 अरब जोड़े।

2017 में बेज़ोस की संपत्ति में 93 देशों की जीडीपी के बराबर बढ़ोतरी

विश्व के सबसे धनी व्यक्ति और ई-कॉमर्स कंपनी एमेज़ॉन के संस्थापक जेफ बेज़ोस की संपत्ति में 2017 के दौरान $32.6 अरब की बढ़ोतरी हुई जो अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक 93 देशों की जीडीपी से अधिक है। वहीं, यह आंकड़ा 28 देशों की सालाना सामूहिक जीडीपी से अधिक है। 12 अंकों में संपत्ति वाले जेफ विश्व के पहले व्यक्ति हैं।

उनकी संपत्ति का ज्यादा हिस्सा एमेज़ॉन के 7.8 मिलियन शेयर से आता है, जो उनके हिस्से है। 53 वर्षीय जेफ बेजोस की जिंदगी काफी संघर्ष भरी रही है। बचपन से ही वो काफी एक्टिव रहे हैं। बचपन में वो घर की चीजों को खोलकर फिर फिट कर दिया करते थे। उनकी मेहनत की बदौलत आज वो दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन गए हैं। आइए आपको बताते हैं उनकी जिंदगी के बारे में कुछ इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स…

नाना के साथ बीता बचपन

एक वक्त ऐसा था जब उनके पास पैसों की तंगी थी। बचपन भी काफी संघर्षों के साथ बीता। उनके माता-पिता की शादी होने के एक साल बाद ही दोनों ने तलाक लेने का फैसला कर दिया। तलाक का कारण उनके पिता की शराब पीने की आदत थी। जब वो चार साल के थे तो उनकी मां ने दूसरी शादी मिगुअल माइक कर ली। मिगुअल ने उनको कानूनी रूप से उन्हें गोद ले लिया। उनका बचपन नाना के साथ बीता। उनके नाना ने ही उनको कंप्यूटर चलाना सिखाया।

काफी पढ़ाकू थे जेफ

बचपन से ही जेफ काफी पढ़ाकू थे और वे हमेशा ही पढ़ाई करते रहते थे। जिसको देख उनके माता-पिता काफी चिंतित रहते थे। उनको लगता था कि उनका बच्चा सिर्फ पढ़ाई में ही न रह जाए। इसलिए उन्होंने जेफ को फुटबॉल खेलने के लिए प्रेरित किया। सबसे पहले जेफ ने प्रिस्टन यूनिवर्सिटी से फिजिक्स में पढ़ाई की जिसके बाद उन्होंने बीच में डिग्री छोड़ कम्प्यूटर साइंस और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना शुरू कर दिया।

गैराज में शुरू की कंपनी

जेफ को हमेशा ही कुछ अलग करने का मन था। पढ़ाई के बाद उन्होंने कई जगह जॉब की लेकिन उनका मन नहीं लगा। सबसे पहले उन्होंने अपना खुद का काम गैराज में शुरू किया। बिजनेस चल पड़ा तो उन्होंने कंपनी को नाम देना का सोचा। सबसे पहले उन्होंने कडाब्रा और फिर रेलेंटसेस डॉट कॉम जैसे नाम सोचे लेकिन उन्हें खारिज कर दिया गया।

जिसके बाद उन्होंने साउथ अमेरिकी नदी अमेजन से प्रेरित होकर उन्होंने कंपनी का नाम अमेजन रखा जिस पर मुहर लग गई। 2007 में कंपनी को बड़ी उप्लब्धि हासिल की। ऑनलाइन बिजनेस में उनकी कंपनी ब्रांड बन चुकी थी। उसके बाद जेफ ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और कंपनी को आगे बढ़ाते चले गए और आज उनकी कंपनी का नाम पूरी दुनिया में फेमस है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here